|| Hare Krishna, Hare Krishna, Krishna Krishna, Hare Hare, Hare Rama, Hare Rama, Rama Rama, Hare Hare ||

Hare Krishna Mandir

Serving the mission of HDG Srila Prabhupada

10 facts about Ratha Yatra

10 facts about Ratha Yatra
By Virupaksha Dasa

Ratha yatra is the annual chariot festival of Their Lordships Jagannatha, Baladeva and Subhadra. They travel on three different rathas and lakhs of people gather to pull the rathas.

  1. It is celebrated in commemoration of Lord Krishna’s return to Vrindavan, after attending a religious (eclipse) festival in Kurukshetra. The gopis of Vrindavan personally pulled the chariot of the Lord.
  2. Every year new chariots are constructed, and the construction begins on Akshaya Tritiya day. It takes 2 months for 200 artisans to construct the Rathas.
  3. The design and dimensions of the chariots never change. More than 100 carpenters work on over 1000 wooden logs to construct the chariots.
  4. The canopies for the chariots are made of almost 1200 meters of cloth. A team of 15 tailors make the canopies.
  5. Over 10 lakh devotees attend the Ratha Yatra at Puri. It is the largest religious festival in the world.
  6. The Ratha Yatra begins only after the king of Puri sweeps the road with a golden broom.
  7. In the Ratha, the Deities are carried to Temple of Gundicha, the maternal aunt of Lord Jagannatha. They stay for 9 days, and the return event is called ‘Bahuda Ratha Yatra’.
  8. The ropes used for pulling the chariot are made of coconut fiber and are 8 inches thick in diameter.
  9. Lord Chaitanya Mahaprabhu during His 18 years of stay at Puri participated in annual Ratha Yatra with sankirtan and dancing. Lord Jagannatha’s Ratha would stop to witness Lord Chaitanya’s dancing.
  10. Shastras say, “rathe ca vamanam drstva punar janma na vidyate” – one who sees the Jagannatha Deities on the Ratha, there is no rebirth for him.

 

 

JAGANNATH

BALABHADRA

SUBHADRA

Ratha

NANDIGHOSA

TALADHWAJA

DARPADALANA

Number of wheels

16

14

12

Total number of wooden pieces

832

763

593

Height

13.5m.

13.2m.

12.9m.

Color of cloth wrappings

Red, Yellow

Red, Blue

Red, Black

Guarded by

Garuda

Vasudev

Jayadurga

Names of charioteers

Daruka

Matali

Arjuna

The flag

Trailokyamohini

Unnani

Nadambika

The horses

Shankha, Balahaka, Shveta, Haridashva

Tibara, Ghora, Dirghashrama, Swarnanava

Rochika, Mochika, Jita, Aparajita

The ropes

Sankhachuda

Basuki

Swarnachuda

Presiding nine Deities

Varaha, Govardhana, Krushna, Gopi - Krishna, Rama, Narayana, Trivikrama, Hanuman and Rudra

Ganesha, Kartikeya, Sarvamangala, Pralambari, Halayudha, Mrutyunjaya, Natamvara, Mukteshwar, Sheshadev

Chandi, Chamunda, Ugratara, Vanadurga, Shulidurga, Varahi, Shyama Kali, Mangala and Vimala

 

जगन्नाथ बलदेव एवं सुभद्रा का वार्षिक रथोत्सव, पूरी रथ यात्रा  के नाम से प्रसिद्द है। वे तीनों तीन अलग रथों में विहार करते हैं और उन्हें खींचने के लिए लाखों लोग एकत्रित होते हैं।

  1. यह उत्सव भगवान् कृष्ण के कुरुक्षेत्र में चंद्र ग्रहण उत्सव मनाकर वृन्दावन लौटने की स्मृति में मनाया जाता है। तब गोपियों ने स्वयं अपने हाथों से भगवान् का रथ खींचा था।
  2. हर वर्ष नए रथ बनाये जाते हैं और रथों का निर्माण अक्षय तृतीय की तिथि से प्रारम्भ होता है। रथ निर्माण के लिए 200 कारीगरों को 2 महीने का समय लगता है।
  3. रथों का माप और आकर कभी नहीं बदलता। 100  सुतार निरंतर लकड़ी के 1000 लट्ठों पर कारीगिरी करते हैं।
  4. रथ के शिखर 1200 मीटर कपड़े से बनते हैं और 15 दरजी इन्हें बनाते हैं।
  5. 10 लाख से भी अधिक लोग रथ यात्रा में भाग लेते हैं और यह विश्व का सबसे विशाल धार्मिक महोत्सव है।
  6. रथ यात्रा तभी प्रारम्भ होती है जब पूरी के महाराज सोने के बने झाड़ू से सड़क साफ़ करते हैं।
  7. जगन्नाथ बलदेव और सुभद्रा को रथ में उनकी मौसी गुंडिचा के मंदिर में ले जाया जाता है। वे वहाँ 9 दिन रुकते हैं और लौटने की यात्रा 'बहुदा रथ यात्रा' कहलाती है।
  8. रथ खींचने वाली रस्सियाँ नारियल के रेशों से बानी होती हैं और उनकी मोटाई 8 इंच होती है।
  9. भगवान् चैतन्य महाप्रभु ने 18 वर्ष पूरी में वास किया और हर वर्ष संकीर्तन एवं नृत्य के साथ रथ यात्रा में भाग लिया। उनका नृत्य देखने के लिए भगवान् जगन्नाथ अपना रथ रोक लेते थे।

शास्त्रों में उल्लेख है "रथे च वमनं दृष्ट्वा पुनर जन्म न विद्यते" - जो भगवान् जगन्नाथ का रथ पर दर्शन कर ले, उसका पुनर्जन्म नहीं होता।

Category : General
Posted On : 06 Jul 2018
Virupaksha Dasa

Virupaksha Dasa joined as a full time missionary in 2005 and is serving at Hare Krishna Movement Ahmedabad. He serves as a Bhagavad-gita teacher and Executive Editor for HKM's Hare Krishna Darshan Magazine.